Tuesday, January 31, 2023

कावेरी नदी की रचना

- Advertisement -spot_img
- Advertisement -spot_img

 

इसकी शुरुआत अगस्त्य नामक एक ऋषि की इच्छा से होती है, जो एक ऐसी नदी बनाना चाहते थे जो दक्षिणी भूमि में रहने वाले लोगों को लाभ पहुंचाए। देवताओं ने उसकी इच्छा पर ध्यान दिया और उन्हें  पानी से भरा एक छोटा कटोरा भेंट किया। वह जहां भी कटोरा डालते, वहीं से नदी का उद्गम होता।

अगस्त्य की यात्रा

अगस्त्य की यात्रा

अगस्त्य ने कूर्ग के पहाड़ों से परे मूल बनाने का फैसला किया और वहां की यात्रा के लिए आगे बढ़े। यात्रा के दौरान वह थक गया और आराम करने के लिए जगह की तलाश करने लगा। तभी उन्हें एक छोटा लड़का मिला जो अकेला खड़ा था। उसने उससे अनुरोध किया कि जाते समय पानी का घड़ा पकड़ कर अपने आप को राहत दी। बालक स्वयं गणेश थे। वह जानता थे कि पानी का बर्तन किस लिए है और उसने महसूस किया कि वह जिस स्थान पर था वह नदी के लिए एकदम सही था, इसलिए उसने बर्तन को नीचे रख दिया।

जब अगस्त्य वापस आए, तो उन्होंने देखा कि घड़ा जमीन पर पड़ा है और एक कौवा उसमें से पानी पीने की कोशिश कर रहा है। उसने कौवे को दूर भगाया, जो उड़ गया लेकिन मटके को जमीन पर टिकाने से पहले नहीं। इसके परिणामस्वरूप उस स्थान से ही नदी का उद्गम हुआ, जिसे अब कावेरी नदी कहा जाता है।

कभी-कभी, चीजें हमेशा उस तरह से काम नहीं करती हैं जैसा हम चाहते हैं। फिर भी, जो होता है वह एक अच्छे कारण के लिए होता है।

- Advertisement -spot_img
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -