भारत के इन 4 मंदिरों के चमत्कार और स्थापना के किस्से

0
1214
भारत के इन 4 मंदिरों के चमत्कार और स्थापना के किस्से

आइये जानते हैं भारत के प्रसिद्ध मंदिरों के चमत्कार और प्रसिद्धि के बारे में.

1. तिरुपति बालाजी

इस मंदिर की गिनती विश्व के सबसे अमीर मंदिरों में होती है. माना जाता है कि भगवान तिरुपति यहां अपनी पत्नी पद्मावती के साथ रहते हैं. इसलिए सच्चे दिल से मांगने पर यहां सब कुछ मिल जाता है. जिनकी मुराद पूरी होती है, वो अपने बाल यहां चढ़ाता है. ऐसा माना जाता है कि एक बार बालाजी ने अपनी बेटी के विवाह के लिए धन देवता कुबेर से बहुत सारा धन उधार लिया था. तब से ये मंदिर बस नकद चढ़ावा स्वीकार करता है.

2. कामख्या मंदिर

माता के सभी शक्तिपीठों में से कामख्या मंदिर को सर्वोत्तम माना जाता है. ये असम के गुवाहाटी से थोड़ी दूर नीलांचल की पहाड़ियों पर स्थित है. इस मंदिर में कोई मूर्ति नहीं है. लेकिन ऐसा कहा जाता है कि ये वो जगह है, जहां मां सती की योनी गिरी थी. साल में 3 दिन इससे रक्तस्राव होता है, मासिक धर्म की तरह. यहां आने वालों को प्रसाद के रूप में सफ़ेद कपड़ा मिलता है.

3. काशी विश्वनाथ मंदिर

काशी नगरी, जो भगवान शिव के त्रिशूल पर बसी है, वहां भगवान शिव के दो मंदिर हैं. ऐसा कहा जाता है कि 12 ज्योतिर्लिंगों में इसका नौंवा स्थान है. ग्रह और काल के चक्र से मुक्ति पाने के लिए लोग यहां जाते हैं. लोग ऐसा भी मानते हैं कि इसी स्थान पर भगवान विष्णु ने सृष्टि उत्पन्न करने की कामना से तपस्या करके आशुतोष को प्रसन्न किया था और फिर उनके शयन करने पर उनके नाभि-कमल से ब्रह्मा उत्पन्न हुए, जिन्होंने सारे संसार की रचना की.

4. केदारनाथ मंदिर

देश के सबसे पूज्य माने जाने वाले शिव मंदिरों में से एक है- केदारनाथ मंदिर. सदियों पुरानी चार धाम की यात्रा में केदारनाथ को एक प्रमुख तीर्थ के रूप में माना जाता है. पौराणिक कथा कहती है कि शिव और पार्वती यहां रहते थे और वे केदार की तरफ कभी-कभार आया करते थे. इसी झील के किनारे गणपति का सृजन हुआ था. यह वही स्थान है जहां पहली बार आदि योगी शिव ने खुद को आदि गुरु में रूपांतरित करके अपनी योगिक विद्या को सप्तऋषियों को देना शुरू किया. उत्तराखंड प्रलय के दौरान भी सुरक्षित रहकर ये मंदिर अपनी सिद्धता साबित कर चुका है.