Tuesday, January 31, 2023

अमावस्या श्राद्ध 2022

- Advertisement -spot_img
- Advertisement -spot_img

अमावस्या श्राद्ध रविवार, 25 सितंबर, 2022
कुटुप (कुतुप) मुहूर्त – सुबह 11:48 बजे से दोपहर 12:37 बजे तक
अवधि – 00 घंटे 48 मिनट
रोहिना (राहुण) मुहूर्त – दोपहर 12:37 से दोपहर 01:25 बजे तक
अवधि – 00 घंटे 48 मिनट
अपराहन (अपराह्न) काल – 01:25 अपराह्न से 03:50 अपराह्न
अवधि – 02 घंटे 25 मिनट

2022 अमावस्या श्राद्ध

अमावस्या श्राद्ध 2022
अमावस्या तिथि श्राद्ध उन मृत परिवार के सदस्यों के लिए किया जाता है जिनकी मृत्यु अमावस्या तिथि, पूर्णिमा तिथि और चतुर्दशी तिथि को हुई थी।
यदि कोई सभी तिथियों पर श्राद्ध करने में सक्षम नहीं है तो इस दिन एक ही श्राद्ध (सभी के लिए) परिवार में सभी मृत आत्माओं को प्रसन्न करने के लिए पर्याप्त है। यदि पूर्वजों की पुण्यतिथि ज्ञात नहीं है या भुला दी गई है तो इस तिथि पर उन श्राद्धों को किया जा सकता है। इसलिए अमावस्या श्राद्ध को सर्वपितृ मोक्ष अमावस्या के नाम से भी जाना जाता है।
साथ ही पूर्णिमा तिथि को मरने वालों के लिए महालय श्राद्ध भी अमावस्या श्राद्ध तिथि को किया जाता है न कि भाद्रपद पूर्णिमा पर। हालांकि भाद्रपद पूर्णिमा श्राद्ध पितृ पक्ष से एक दिन पहले पड़ता है लेकिन यह पितृ पक्ष का हिस्सा नहीं है। आमतौर पर पितृ पक्ष भाद्रपद पूर्णिमा श्राद्ध के अगले दिन शुरू होता है।
अमावस्या श्राद्ध को अमावस्या श्राद्ध के नाम से भी जाना जाता है। पश्चिम बंगाल में महालय अमावस्या नवरात्रि उत्सव की शुरुआत का प्रतीक है। मान्यता है कि इसी दिन देवी दुर्गा का पृथ्वी पर अवतरण हुआ था।
पितृ पक्ष श्राद्ध पर्व श्राद्ध (पार्वण श्राद्ध) हैं और इन्हें करने का शुभ समय या तो कुटुप मुहूर्त और रोहिना आदि मुहूर्त है। उसके बाद जब तक अपराहन काल समाप्त नहीं हो जाता है। श्राद्ध के अंत में तर्पण (तर्पण) किया जाता है।

- Advertisement -spot_img
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -