21 मुखी रुद्राक्ष का महत्व एवं चमत्कार

0
1356

21 मुखी रुद्राक्ष का महत्व:

21 मुखी रुद्राक्ष एक विशेष प्रकार का रुद्राक्ष है जिसकी विशेषता इसमें 21 मुख (विकेंद्रित मुख) होने से होती है। यह रुद्राक्ष भारतीय धार्मिक परंपरा में महत्वपूर्ण माना जाता है और इसे धारण करने के कई धार्मिक और आध्यात्मिक लाभ माने जाते हैं।

21 मुखी रुद्राक्ष का महत्व निम्नलिखित तरीके से है:

  1. भगवान विष्णु के अवतार: 21 मुखी रुद्राक्ष को विष्णुजी के वामन अवतार के रूप में जाना जाता है। इसलिए, इसका धारण विष्णु भक्ति को बढ़ावा देने में मदद करता है।
  2. सुरक्षा और रक्षा: यह रुद्राक्ष स्वामी कार्तिकेय (मुरुगन) के शक्तिशाली रूप को प्रतिनिधित्व करता है और धारक को रक्षा करने में मदद करता है।
  3. सुख और समृद्धि: 21 मुखी रुद्राक्ष धन, समृद्धि और धनवान जीवन के लिए शुभ माना जाता है। इसका धारण धन, संपत्ति, और आर्थिक समृद्धि को बढ़ाने में मदद कर सकता है।
  4. संतान सुख: इस रुद्राक्ष को संतान सुख और पुत्र संतान की प्राप्ति के लिए भी उपयोगी माना जाता है।
  5. भय मुक्ति: यह रुद्राक्ष भय और डर से मुक्ति प्रदान करने में मदद कर सकता है और धारक को साहस और सामर्थ्य का अनुभव करवाता है।
  6. आध्यात्मिक विकास: 21 मुखी रुद्राक्ष धारक के आध्यात्मिक विकास में मदद करता है और उसे धार्मिक ज्ञान और साधना की ओर प्रेरित करता है।

ध्यान दें कि रुद्राक्ष के धारण का विधान और लाभ व्यक्ति के श्रद्धा और आस्था पर भी निर्भर करता है। इसे धारण करने से पहले एक पंडित या धार्मिक गुरु से परामर्श लेना उचित होता है।

२१ मुखी रुद्राक्ष के लाभ:

  1. साधना और ध्यान में समृद्धि: २१ मुखी रुद्राक्ष धारण करने से साधना और ध्यान में वृद्धि होती है। इसे धारण करने से मानसिक शक्ति विकसित होती है और ध्यान को स्थिर रखने में मदद मिलती है।
  2. शत्रुओं का नाश: इस रुद्राक्ष को धारण करने से शत्रुओं का नाश होता है और नकारात्मक शक्तियों का असर कम होता है।
  3. सुख-शांति का स्रोत: २१ मुखी रुद्राक्ष धारण करने से व्यक्ति को सुख और शांति का अनुभव होता है। यह मन को शांत करता है और स्थिरता प्रदान करता है।
  4. संतान सुख: इस रुद्राक्ष को धारण करने से संतान सुख में वृद्धि होती है और संतान सम्बन्धी समस्याएं दूर होती हैं।
  5. विवाहित जीवन में समृद्धि: २१ मुखी रुद्राक्ष विवाहित जीवन में समृद्धि और सुख-शांति का स्रोत बनता है।
  6. शरीरिक और मानसिक रोगों का निवारण: यह रुद्राक्ष शरीरिक और मानसिक रोगों के निवारण में मदद करता है और आरोग्य को बढ़ाता है।
  7. धर्मिक उन्नति: इस रुद्राक्ष को धारण करने से व्यक्ति की धार्मिक उन्नति होती है और उसके आचार-व्यवहार में सुधार होता है।
  8. विद्या प्राप्ति: यह रुद्राक्ष विद्या प्राप्ति में सहायक होता है और अध्ययन शक्ति को बढ़ाता है।

नोट: रुद्राक्ष के लाभ शरीरिक, मानसिक, और आध्यात्मिक स्तर पर अनुभव किए जा सकते हैं। यह लाभ व्यक्ति की श्रद्धा और भक्ति के साथ उसके समय और तरीके पर निर्भर करते हैं। रुद्राक्ष धारण करने से पहले विशेषज्ञ या विद्वान से सलाह लेना उचित रहेगा।

BUY Original 21 Mukhi Rudraksha